अनूपपुर: रोजगार सहायक के कारनामे के आगे नतमस्तक हुआ जिला प्रशासन

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

रोजगार सहायक के कारनामे के आगे नतमस्तक हुआ जिला प्रशासन
पंचायत में चल रहा चंदू का कारनामा, फर्जी मास्टर रोल के माध्यम से लाखों रुपए का आहरण

ग्राम पंचायत में भ्रष्टाचार कोई आम बात नहीं है जब से पंचायत राज संगठन का गठन हुआ है तब से लेकर आज तक न जाने कितने पंचायत कर्मी अपने और अपने आने वाले पुस्तों को मालामाल करने के लिए पंचायत की राशि का जमकर बंदर बांट किया है। कहने को तो शासन प्रशासन द्वारा भ्रष्टाचार को कम करने के लिए सबकुछ ऑनलाइन की प्रक्रिया शुरू की गई लेकिन इस ऑनलाइन में भी किस तरह से अपना लाइन क्लियर करना है। आजकल के पढ़े-लिखे और होशियार पंचायत कर्मी कहीं ना कहीं से अपना रास्ता निकाल ही लेते हैं। ऐसा ही जीता जागता उदाहरण ग्राम पंचायत लपटा में पदस्थ रोजगार सहायक का है जिन्होंने अपनी कुशाग्र बुद्धि के बलबूते शासन को ठेंगा दिखाते हुए पंचायत राशि का दुरुपयोग और पंचायत की पोर्टल में जमकर छेड़खानी किया गया है।

अनूपपुर। अनूपपुर जिले के जैतहरी जनपद के ग्राम पंचायत लपटा में पदस्थ रोजगार सहायक के भ्रष्टाचार के कारनामे इन दिनों चर्चा में है ग्रामीणों ने रोजगार सहायक की मनमानी और भ्रष्टाचार को लेकर शिकायत की है जिस पर उन्होंने सरपंच पुष्पा सिंह निवासी लपटा ने बताया है कि हमारे ग्राम रोजगार सहायक चंद्रशेखर कुशवाहा द्वारा आए दिन भ्रष्टाचार करने और ग्राम पंचायत का पैसा आहरण करने में कोताही नहीं बरत रहे हैं। उन्होंने बताया कि लगातार रोजगार सहायक द्वारा शासन की विभिन्न योजनाओं में अपने रिश्तेदारों का नाम जुड़वा कर उन्हें सीधे तौर पर लाभ दिया जा रहा है इतना ही नहीं गांव के पंच सरपंच समेत अन्य ग्रामीणों ने बताया कि गांव में कोई भी कार्य यदि होता है तो उसमें सीधे तौर पर लाभ रोजगार सहायक अपने रिश्तेदारों को पहुंचा रहा है वहीं यदि किसी को पंचायत से संबंधित किसी प्रकार की जरूरत है तो रोजगार सहायक उन जरूरत को ध्यान नहीं देता है।

फर्जी हाजिरी के सहारे चल रहा रोजगार सहायक का कारोबार

इन दिनों जिले भर में रोजगार गारंटी के तहत काम चल रहा है ऐसे में पंचायत में इस काम के माध्यम से बेरोजगारों को रोजगार देने का कार्य किया जाता है लेकिन इस बेरोजगारी और बेरोजगारों के बीच खड़े पंचायत कर्मी जिसमें सबसे ज्यादा सक्रिय रूप से रोजगार सहायक दिखाई देते हैं वह कहीं ना कहीं इस काम में फर्जी हाजिरी का सहारा लेकर अपने चहेतों के नाम पर राशि का आहरण कर रहा हैं। बताया जा रहा है कि रोजगार सहायक चंद्रशेखर कुशवाहा द्वारा अपने रिश्तेदारों में लगभग 10 से 15 नाम पर लगातार फर्जी तरीके से हाजिरी भरकर राशि का आहरण किया गया है। ग्रामीणों ने शिकायत की है कि यदि सही तरीके से मास्टर रोल और हाजिरी की जांच की जाए तो निश्चित तौर पर रोजगार सहायक के काले करना में सामने आएंगे।

शिकायत के बाद धमकी दे रहा रोजगार सहायक

ग्राम पंचायत सरपंच पंच एवं ग्रामीणों ने बताया कि जब से हमने रोजगार सहायक के बारे में मुख्य कार्यपालन अधिकारी अनूपपुर से शिकायत की है उसके बाद रोजगार सहायक लगातार हमें धमकी दे रहा है उसका कहना है कि आपको इसी पंचायत में रहना है और आप मेरे से उलझ रहे हो अपने आप को रसूखदार बताते हुए रोजगार सहायक चंद्रशेखर कुशवाहा का कहना है कि उनके द्वारा किए जा रहे भ्रष्टाचार में किसी प्रकार का हस्तक्षेप न किया जाए। इतना ही नहीं यदि फर्जी हाजिरी और निर्माण कार्य में किसी प्रकार की पूछताछ की जाती है तो वह सीधे तौर पर वाद विवाद में उतर जाता है और ग्रामीण व पंच सरपंच को धमकी देते फिर रहा है।

इस तरीके से निकाली गई शासन की राशि

ग्राम पंचायत लापटा में पदस्थ होने के दौरान रोजगार सहायक चंद्रशेखर कुशवाहा द्वारा ग्रामीण खेल मैदान समतलीकरण प्राथमिक पाठशाला झाड़ेली में मास्टर रोल संख्या 3238, 26020 एवं 26021 के साथ गौशाला निर्माण में मास्टर रोल क्रमांक 15 एवं 32 38 वही मुख्य सड़क मार्ग पहुंच पीडीएस गोदाम पहुंच मार्ग पर आरसीसी पुलिया निर्माण जो पूरनलाल के खेत के पास बनाया गया है जिसमें मास्टर रोल संख्या 2313 एवं पुल निर्माण बैरिया ओला मास्टर रोल संख्या 9832 एवं आवास मोहल्ला पहुंच मार्ग आरसीसी पुलिया निर्माण महेंद्र मिश्रा के खेत के पास मास्टर रोल संख्या 1349 एवं सघन वृक्षारोपण बंधवा टोला लोटन के खेत के पास मास्टर रोल संख्या 4357 एवं आरसीसी पुलिया निर्माण ठाकुर बाबा तालाब के पास मास्टर रोल संख्या 9832 के साथ तूफान कंट्रोलर स्ट्राइक चितवाही डोंगरी में मास्टर रोल संख्या 7227 व 8939 एवं 9948 में रोजगार सहायक के द्वारा जमकर भ्रष्टाचार किया गया है बताया जा रहा है कि लगभग एक दर्जन मास्टर रोल संख्या का इस्तेमाल करके लाखों रुपए की राशि फर्जी तरीके से आहरित की गई है जबकि इन मास्टर रोल क्रमांक में किसी भी प्रकार के कोई व्यक्ति कार्य पर उपस्थित नहीं पाए गए थे।

कार्यवाही की मांग पर अड़े ग्रामवासी

ग्राम पंचायत लपटा के ग्रामीणों ने जिला पंचायत सीईओ को शिकायत करते हुए बताया कि ग्राम पंचायत लगता के विकास कार्यों में जिस तरह से धांधली की गई है वह जांच के योग्य है रोजगार सहायक द्वारा लगातार पंचायत की राशि में बंदर बांट और फर्जी तरीके से राशि का आहरण और योजनाओं में अपने चहेतो के साथ मिलकर मास्टर रोल के माध्यम से फर्जीवाड़ा किया गया है। इन सब भ्रष्टाचार और धांधली को लेकर ग्रामीणों ने उक्त रोजगार सहायक के खिलाफ जांच करते हुए कार्यवाही की मांग की गई है। ग्रामीणों ने बताया कि बीते दो वर्षों से रोजगार सहायक के भ्रष्टाचार को लेकर शिकायत की जा रही है लेकिन अब तक कार्रवाई नहीं हुई है ऐसे में ग्रामीण काफी परेशान है उनका कहना है कि यदि कार्यवाही नहीं होती है तो हम रोजगार सहायक के खिलाफ धरना प्रदर्शन भी शुरू कर सकते हैं।

आखिर कौन है चंद्रशेखर और किसका मिल रहा संरक्षण

यूं तो हर जगह पर और हर क्षेत्र पर कोई ना कोई चंदू होता है लेकिन ग्राम पंचायत लापटा में रोजगार सहायक के पद पर पदस्थ चंद्रशेखर उर्फ चंदू काफी रसूखदार और पहुंच वाला व्यक्ति जान पड़ रहा है बताया जा रहा है कि वह ग्रामीणों को अपनी उंगली पर नचाना चाहता है तभी तो वह निर्माण कार्य में लगातार भ्रष्टाचार कर रहा है और उसकी तरफ कोई आंख उठाकर भी नहीं देख रहा है ना तो शासन और ना ही प्रशासन उसके कारनामे में किसी प्रकार की रुचि दिखा रहे हैं। तब ऐसे में सवाल तो उठता ही है कि आखिर कौन है चंद्रशेखर उर्फ चंदू और किसका मिल रहा है उसे संरक्षण। वही बताया गया कि संरक्षण के तौर पर रोजगार सहायक चंद्रशेखर कुशवाहा को ग्राम पंचायत लपटा से वर्तमान में ग्राम पंचायत गोधन में पदस्थ कर दिया गया है और उसके काले करनामें और भ्रष्टाचार पर परत चढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है। वहीं जानकारी के अनुसार रोजगार सहायक का कहना है कि खबर छपते रहे उससे कोई फर्क नही पड़ता मैं पत्रकारों से नही डरता, मैं सब मैनेज कर लूंगा।

Leave a Comment

[democracy id="1"]