आखिर किसने बनाया ये मुजस्समा

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

आखिर किसने बनाया ये मुजस्समा

*MPRDC द्वारा निर्मित पुल बना राहगीरों के लिए मुसीबत*

मध्य प्रदेश सड़क विकास निगम आए दिन अपने कारनामों की वजह से सुर्खियां बटोरता रहता है, इस इस विभाग की कारिस्तानी किसी से छुपी नहीं है सरकारी पैसों का इस तरह से बंदरबाट किया जाता है की आम लोगों की आवागमन की सुविधा मुहैया कराने के लिए जो जिम्मेदारी इस विभाग को सौंप जाती है उसी जिम्मेदारी को निभाने में पैसों की जमकर विभागीय नुमाइंदे होली खेलते नजर आते रहते हैं, जिसका जीता जाता उदाहरण अनूपपुर के पुष्पराजगढ़ मुख्यालय में मार्को फीलिंग स्टेशन के पास देखने को मिल रहा है।

*क्या है पूरा मामला*

अनूपपुर जिले के पुष्पराजगढ़ मुख्यालय अंर्तगत विगत कई वर्षों से शासकीय महाविद्यालय पुष्पराजगढ़ के मंडल द्वार से लेकर मार्को फीलिंग स्टेशन तक पानी निकासी की उचित व्यवस्था न होने से हल्की ही बारिश से पूरे रोड में पानी का भराव हो जाता रहा है गौरतलब हो की इस समस्या से आसपास के रहवासी सहित पुष्पराजगढ़ तहसील का सबसे बड़ा शिक्षा का मन्दिर जिसे लखौरा स्कूल के नाम से जाना जाता है वह पढ़ने वाले बच्चों, महाविद्यालय के बच्चे भी इस समस्या से अति पीड़ित रहे है जिसको देखते हुए एक पुल का निर्माण बीते दिनों में कराया गया जिससे ये समस्या उत्पन्न न हो लेकिन बे मौसम बारिश होने से ये जो कारनामा MPRDC द्वारा किया गया है उससे विभागीय कार्यप्रणाली पर अब प्रश्न चिन्ह उठ रहे है।

*पुल बना इंजीनियरिंग की पेस की मिशाल*

जलभराव की समस्या से निजात दिलाने के लिए जिस पुल का निर्माण MPRDC द्वारा करवाया गया है वह काबिले तारीफ है पुल से गुजरने वाले सभी राहगीर पुल पर किए गए कारीगिरी देख तारीफ करते थकते नहीं है, पानी निकासी के लिए बनाया गया पुल अब अपनी आप बीती खुद ही बया कर रहा है आमजन मानस को सुगम रास्ता बना कर देने वाला विभाग के जिम्मेदार उपयंत्री ऐसा पुल निर्माण करवाए है की पानी पुल के नीचे से जाने की जगह ऊपर से निकलने को मजबूर है इसलिए ये कहना गलत न होगा कि MPRDC द्वारा पुल बना इंजीनियरिंग की अद्भुत मिशाल पेश की है।

*बे मौसम बारिश से हो रहा जल भराव*

पुल बने अभी चंद ही दिन हुए है कि हुए बे मौसम बारिश ने विभाग की पोल खोल कर रख दी है महज कुछ ही घंटो की बारिश से घुटनों के ऊपर तक पानी पुल के सड़क पर भरा हुआ है जो किसी भी आने जाने वाले विभागीय अधिकारियों या फिर जिले में बैठे आला अधिकारियों को नजर नहीं आ रही है इस समस्या से स्कूल जाने वाले बच्चे या पैदल चलने वाले राहगीरों को इस सड़क पर पानी भराव से अब चलना दुभर हो गया है।

*सरकारी राशि की खेली जा रही जम कर होली*

जानकारी अनुसार MPRDC द्वारा बनाये गये पुल निर्माण की लागत लगभग 6 लाख 50 हजार रुपए है जिसको मूर्तिरूप देने की जिम्मेदारी विभाग द्वारा वेदिका स्टोन क्रेशर एंड कंस्ट्रक्शन को दिया गया था जिसमे निगरानी रखने के लिए खुद ही विभाग के उपयंत्री कार्यस्थल पर जमे रहते रहे है जिस तरह से उपयंत्री द्वारा अपने मौजूदगी में पुष्पराजगढ़ के रीवा अमरकंटक मार्ग पर मार्को फीलिंग स्टेशन के पास निर्माण करवाया है वह भ्रष्टाचार का जीता जागता उदाहरण है कि उक्त कार्य के लिए आवंटित राशि का सही तरह से क्रियान्वयन न होने से जनता अब कहते नहीं थक रही है की सरकारी नुमाइंदों द्वारा सरकारी राशि की जम कर होली खेली जा रही है।

*इस पूरे मामले में जब ए.जी.एम. मुकेश बेले से दूरभाष से संपर्क करने की कोशिश की गई तो उन्होंने फोन उठाना उचित नहीं समझा।*

Leave a Comment

[democracy id="1"]