पानी के लिए ग्रामीण कर रहे मीलो का सफ़र

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

6 महीने पूर्व किया बोर, पर “न” अक्ल के घोड़े दौड़े, “न” पानी चढ़ा पहाड़

पीएचई विभाग की नाकामी, ग्रामीणों की बनी परेशानी।
योजनाओं के बाद दम तोड़ती व्यवस्था, ग्रामीण परेशान।
जल जीवन मिशन ने भी यहाँ पर टेके घुटने
अनूपपुर । पुष्पराजगढ़ जनपद अंतर्गत पड़री पंचायत के चौरादादर  गाँव के लोग कैसे रोजाना सुबह होते ही अपने घर से 2 किमी दूसरे गांव में जंगली, पहाड़ी रास्तो से होकर पानी के लिए पहुचते है और अपने सूखे कंठो की प्यास बुझाने के रोजाना इसी दिन चर्या से झुझते है। देखिये तस्वीरों में कैसे ग्रामीण लाइन लगाकर पानी के लिए जा रहे है और अपनी भाषा मे कह रहे है कि – पानी बनिस जियू के जंजाल ।


अनूपपुर जिले की जहां विधानसभा क्षेत्र पुष्पराजगढ़ अंतर्गत पड़री पंचायत के चौरादादर गाँव जो पहाड़ी क्षेत्र में बसा हुआ है यहां के लोग आजादी के 76 वर्ष बाद या यूं कहें कि सदियों से पीने के पानी की समस्या से जूझ रहे है। चौरादादर गाँव मे 45 घर के लोग निवासरत है और लगभग 300 की आबादी वाले गाँव मे शासन प्रशासन की योजना दम तोड़ती नजर आ रही है।
न अक्ल के घोड़े दौड़े न पानी चढ़ा पहाड़
दरअसल इस गाँव के ग्रामीणों ने बताया कि यह समस्या आज की नही है कई पीढ़ी से हम ऐसे ही जंगली रास्तो का सफर तय कर रोजाना सुबह से पानी के लिए बकान गाँव मे आते और इन जंगली पथरीले रास्तो से होकर पानी ले जाते है हालकि पीएचई विभाग ने बकान गांव में एक बोर कराया था औऱ कहा जा रहा था कि पहाड़ चढ़ा कर पानी पहुचाएंगे, पर 6 महीने से ऊपर बीत गए बोर ऐसे का ऐसे ही पड़ा हुआ है “न अक्ल के घोड़े दौड़े न पानी चढ़ा पहाड़।
हैंडपंप उगल रहे हवा
पीएचई विभाग ने पूर्व में 2 से 3 हैण्डपम्प खनन करवाए है पर किस काम के नही है अब ऐसे में सवाल विभाग पर भी उठ रहा कि क्या इस गाँव मे बोर कराने से पहले विभाग ने सर्वे नही कराया या महज कागजी सर्वे करा कर दिखावे के लिए हैण्डपम्प खनन कराया जिससे ग्रामीणों की प्यास नही बुझ पा रही है।
एसडीओ ने माना स्थिति बहुत खराब
पीएचई विभाग के प्रभारी एसडीओ दीपक साहू से जब इस मामले पर फोन पर चर्चा हुई तो उन्होंने कहा वाकई वहां की स्थित बहुत खराब है चौरादादर में ऊपर पानी नही है, नीचे बकान गाव में एक नया बोर करवा कर लिफ्ट के जरिये पहाड़ के ऊपर पानी पहुँचाने की कोशिष रहेगी जल्द ही समस्या का हल किया जाएगा।
बहरहाल ग्रामीणों की परेशानी साफ दिखाई पड़ रही है इस मामले पर सब अलग अलग सफाई दी रहे है, देखने वाली बात तो यह होगी कि इस गाँव के लिए शासन प्रशासन कौन सा स्थाई कदम उठता है औऱ कब तक, जिससे ग्रामीणों की समस्या का समाधान हो सके बहरहाल वर्तमान की स्थित बदहाल ही नजर आ रही है।

Leave a Comment

What does "money" mean to you?
  • Add your answer