ASER की रिपोर्ट में चौंकाने वाले ट्रेंड, 14-18 साल के एक चैथाई बच्चे आसानी से नहीं पढ़ पाते कक्षा 2 का पाठ

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

ASER 2023: वर्ष 2023 के लिए एनुअल स्टेटस ऑफ एजुकेशन रिपोर्ट जारी कर दी गई है. ये रिपोर्ट प्रथम फाउंडेशन की ओर से बियॉन्ड बेसिक्स नाम से जारी हुई है, जिसमें भारत में युवाओं के बीच बुनियादी साक्षरता और संख्यात्मकता के स्तर का विश्लेषण किया गया है. रिपोर्ट में देश के 26 राज्यों के 28 जिलों के 34,745 छात्रों का सर्वेक्षण किया गया है. इनमें सरकारी एवं प्राइवेट दोनों संस्थानों के स्टूडेंट इसमें शामिल हैं.

रिपोर्ट में साक्षरता दर को लेकर कुछ चौंकाने वाले ट्रेंड सामने आए हैं. एएसईआर 2023 के अनुसार देश में 14 से 18 वर्ष की आयु के लगभग 25 फीसदी छात्र कक्षा 2 स्तर के पाठ आसानी से नहीं पढ़ पाते हैं. वहीं इस आयु वर्ग के तकरीबन 42.7 फीसदगी स्टू़डेंट्स अंग्रेजी में वाक्य पढ़ने में असक्षम हैं.

उम्र के साथ घटी नामांकन दर
रिपोर्ट में बताा गया है कि 14 से 18 आयु वर्ग के सर्वे में शामिल कुल युवाओं में से 86.8 फीसदी स्टूडेंट्स ही शैक्षणिक संस्थानों में नामांकित हैं. वहीं आयु के साथ नामांकन दर में भी गिरावट देखी गई है. क्योंकि 18 वर्ष की आयु के केवल 67.4 स्टूडेंट ही शैक्षणिक संस्थाओं में पढ़ रहे हैं. सर्वे किए गए छात्रों में साक्षरता एवं न्यूमरेसी की मूलभूत स्किल्स में भी कमी पाई गई है. 51.6 फीसदी छात्र अरिथमेटिक के आसान सवाल भी हल नहीं कर पा रहे थे.

ये भी पढ़ें-
UGC NET के हैं कई फायदे, असिस्टेंट प्रोफेसर से लेकर सरकारी नौकरी तक मौका
ग्रेजुएट्स के लिए राज्य सरकार में निकली बहाली, 1 लाख से अधिक सैलरी

Tags: Education

Source link

Leave a Comment

[democracy id="1"]