‘विदेश मंत्री जयशंकर की चाय अच्छी रही’, पाकिस्तान पर ईरान के हवाई हमले में क्या भारत का हाथ है?

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

नई दिल्ली. ईरान ने आतंकवादी समूह जैश अल-अदल के पाकिस्तान के अंदर स्थित ठिकानों पर मंगलवार को हमले किए. सरकारी ईरना समाचार एजेंसी और टीवी ने कहा था कि हमले के लिए मिसाइल और ड्रोन का इस्तेमाल किया गया. जैश अल-अदल सुन्नी आतंकवादी समूह है जो मुख्यत: पाकिस्तान से अपनी गतिविधियों को अंजाम देता है.

इन हमलों के तुरंत बाद से ही सोशल मीडिया पर इस बात को लेकर चर्चा होने लगी कि क्या पाकिस्तान पर ईरान की तरफ से किए गए मिसाइल हमले में भारत का हाथ है? ऐसा इसलिए भी हुआ क्योंकि भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर एक दिन पहले सोमवार को अपने दो दिवसीय दौरे के मद्देनजर ईरान में ही थे और अगले ही दिन यानी कि मंगलवार को ईरान ने पाकिस्तान के खिलाफ यह कार्रवाई कर दी.

वाहिदा नाम की एक ‘एक्स’ यूजर ने कहा, “ईरान ने पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक की. हां, यह पाकिस्तान को दुनिया से जड़ से उखाड़ने का स्पष्ट संदेश है. 15 जनवरी को भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर ईरान में थे. मैं सिर्फ इतना कह रही हूं. चाय बहुत बढ़िया थी.”

एक अन्य ने कहा, “जयशंकर और ईरान के राष्ट्रपति डॉ. इब्राहिम रईसी की मीटिंग के 24 घंटों के भीतर, ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स ने पाकिस्तान स्थित आतंकवादी अड्डे पर बैलिस्टिक मिसाइल और ड्रोन से हमला कर दिया.”

‘एक्स’ पर एक यूजर ने लिखा, “विदेश मंत्री एस जयशंकर का ईरान दौरा. अगले दिन ईरान ने पाकिस्तान पर हमला बोल दिया. मिसाइल दागी, तोप से गोले बरसाए. खेला होबे.”

पाकिस्तान ने ईरान के हमलों पर ‘गंभीर परिणामों’ की चेतावनी दी
दूसरी ओर, पाकिस्तान ने बलूचिस्तान प्रांत में एक सुन्नी आतंकी संगठन से जुड़े ठिकानों को निशाना बनाकर हवाई हमले किए जाने पर ईरान को ‘गंभीर परिणाम’ भुगतने की चेतावनी दी है. ईरान के इन हमलों में दो बच्चों की मौत हो गई और तीन अन्य घायल हो गए. पाकिस्तान ने ‘अपने हवाई क्षेत्र के उल्लंघन’ की कड़ी निंदा करते हुए ईरान के प्रभारी राजदूत को विदेश मंत्रालय में तलब किया.

Tags: Iran, S Jaishankar

Source link

Leave a Comment

[democracy id="1"]