एसपी के वाहन से बाइक टकराई 1 की मौत 1 घायल

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

अनूपपुर। पुलिस अधीक्षक जितेंद्र सिंह पावर आज सुबह सरकारी काम से अमरकंटक जा रहे थे तभी मुख्यालय से महज 5 किलोमीटर दूर बैरीबाध स्थित अशोक वाटिका के पास पुलिस अधीक्षक की गाड़ी ने एक बाइक सवार को टक्कर मार दी। इस घटना में बाइक सवार दो लोगो में एक ने मौके में ही दम तोड दिया तो वही दूसरे का ईलाज जिला अस्पताल में चल रहा है। वही पुलिस अधीक्षक का चालाक को भी अंदरूनी चोट आई है। घटना के बाद पूरा अस्पताल को पुलिस ने छावनी में तब्दील कर दिया।


जानकारी के अनुसार आज सुबह ग्राम पड़री के रहने वाले 23 वर्षीय सतीश धुर्वे पिता महीपाल सिंह अपने साथी बहोरन सिंह के साथ अनूपपुर आ रहे थे जो पुलिस अधिक्षक के वाहन क्रमांक एमपी 65 जेड ए 54346 इनोवा वाहन से आज सुबह लगभग 9 बजे के आस पास आमने सामने की टक्कर हो गई। घटना का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है की इनोवा वाहन के सामने के दोनो एयर बैग तक खुल गए।
इस सड़क दुर्घटना में घायलों को तुरंत इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन तब तक एक व्यक्ति ने दम तोड़ दिया था आनंन फानन ने पुलिस ने वारदात की जगह को बदलने का प्रयास किया। वहीं मौके पर टक्कर हुए दोनों वाहनों को अलग-अलग जगह पर रखा गया। जिस पर भी कोटवाली पुलिस पर सवालिया निशान खड़े हो रहे हैं। जिस वाहन में पुलिस अधीक्षक मीटिंग में शामिल होने अमरकंटक जा रहे थे, वो किसी राजा तिवारी पुरानी बस्ती का बताया जा रहा है घटना के बाद यह वाहन उसी के घर में खड़ा रहा। जहां पर एडीजी डीसी सागर ने वाहन का मुआयना किया और एफएसएल टीम को उचित कार्रवाई करने की बात कही।
इस दौरान मृतक बहुरन सिंह के परिजन जिला अस्पताल में अपने बेटे का शव लेने के लिए जिला अस्पताल पहुंचे हुए थे जहां पर काफी मशक्कत के बाद पुलिस के द्वारा उक्त मृतक का शव पीएम कराकर परिजनों को सौंप दिया गया। हालाकि अभी किसी भी तरह को सरकारी मदद पीड़ित परिवार को नहीं दी गई है।
पुलिस ने जप्त नहीं किया अभी तक वाहन 
आमतौर पर सड़क दुर्घटनाओं के मामले में पुलिस तत्काल सड़क से ट्रैफिक के हटाने के लिए दुर्घटना से घटित हुए वाहनों को कोतवाली लाकर जमा करती है लेकिन इस मामले में पुलिस ने पुलिस अधीक्षक के वाहन को ही ठेकेदार के घर में ले जाकर सुरक्षित रखना उचित समझा। मामले की जांच पड़ताल करने खुद जब शहडोल संभाग के एडीजी डीसी सागर घटनास्थल पर पहुंचे तो उन्होंने वाहन को देखने की बात कही तब कोतवाली प्रभारी के द्वारा उक्त वाहन को ले जाकर ठेकेदार राजा तिवारी के घर में दिखाई जहां पर उनके द्वारा एफएसएल टीम को जांच पड़ताल कर की बात कही।
हालांकि एडीजी डीसी सागर के द्वारा इस घटना को काफी मार्मिक और हृदय वितारक बताया साथ ही पीड़ित परिवार को पूरा सहयोग करने की भी बात कही।

Leave a Comment