1 जुलाई से बदल जाएगी भारतीय दंड संहिता

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

नए कानून की जानकारी के लिए कार्यक्रम आयोजित
कार्यक्रम से शामिल होने की जा रही अपील
अनूपपुर। भारत सरकार के निर्देशानुसार आगामी 1 जुलाई से नवीन आपराधिक कानून 2023 लागू हो रहे है, जिसके सफल क्रियान्वयन हेतु उमरिया पुलिस के समस्त अधिकारी/कर्मचारी भी पूरी तरह से प्रशिक्षित हुये है तथा आमजन भी इस संबंध में जागरूक रहे इसको ध्यान में रखते हुए पुलिस अधीक्षक एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनूपपुर नें आम जनता में भी इसका प्रचार प्रसार करने हेतु कार्यवाही के दिशा-निर्देश दिये गये है । उक्त निर्देशों के अनुक्रम में पुलिस मुख्यालय भोपाल के निर्देशानुसार ऑफलाइन एवं ऑनलाइन नए आपराधिक कानून-2023 की प्रशिक्षण कार्यशालाएं आयोजित की जा रही है साथ ही आम नागरिकों के बीच जाकर भी नए कानून के विभिन्न प्रावधान व सुविधाओं के बारें में प्रचार प्रसार किये जाने की योजना तैयार कर अमल में लाया जा रहा है । ।
तीनों नवीन कानून – भारतीय न्याय संहिता, भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता तथा भारतीय साक्ष्य अधिनियम आम जनता के हितों को ध्यान में रखते हुए बनाये गए है। इसमें महिलाओं व बच्चों से संबंधित अपराधों में पीड़ितों की समस्याओं को केंद्र में रखकर, अपराधियों के लिए और कड़ी सजा आदि पर ध्यान दिया गया है। कही पर भी घटना होने पर परिस्थिति वश कही पर भी FIR की सुविधा तथा E-FIR का भी प्रावधान है । नये कानून में डिजिटल साक्ष्य, फोरेंसिक साक्ष्यों के महत्व को बढ़ाया गया है एवं हर चीज की समय सीमा को निर्धारित किया गया है कि, कितने समय में विवेचना पूर्ण करके चार्ट शीट पेश करना है और केस की अपडेट पीड़ित को समय सीमा में दी जाएगी । गवाह व पीड़ित आदि के बयान की वीडियो ग्राफी व बयान इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से लेने की भी प्रक्रिया है। पुलिस टीम ने उन्हें नए व पुराने कानूनों के तुल्नात्मक चार्ट और प्रावधानों को पीपीटी व पोस्टर आदि के माध्यम से समझाने हेतु तैयार किये गये है । इसी अनुक्रम में पुलिस द्वारा लगातार पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को नवीन आपराधिक कानूनों के संबंध में प्रशिक्षित किया जा रहा है । साथ ही आमजन का भी नए कानून में हुये बदलाव व प्रक्रिया का ज्ञान हो इसको ध्यान में रखते हुए पुलिस सभी थानो मे भारतीय न्याय संहिता एंव भारतीय दण्ड संहिता के विशेष विन्दुओ के तुलनात्मक विवरण के पोस्टर लगाये गये ताकि थाने पर आने वाले किसी भी फरियादी एंव आमजन को नवीन अपराधिक कानून के प्रावधान के बारे में जानकारी रहे और उन्हें वे किसी भी प्रकार से भ्रमित न रहे।
नए कानून की समझ के लिए सोमवार की दोपहर एक कार्यक्रम
का भी आयोजन किया गया है जिसमे माननीय न्यायाधीश मोनिका आध्या सचिव/ जिला न्यायाधीश जिला विधिक सेवा प्राधिकरण अनूपपुर एवं पंकज जायसवाल जिला एवं अपर सत्र न्यायाधीश अनूपपुर समेत पुलिस अधीक्षक अनूपपुर जितेंद्र सिंह पवार की गरिमामय उपस्थिति में दिनांक दोपहर 1:00 बजे नवीन आपराधिक कानून 2023 के क्रियान्वयन के संबंध में स्वसहायता भवन, जिला चिकित्सालय परिसर अनूपपुर में कार्यक्रम का आयोजन रखा गया है। जिसमें 1 जुलाई 2024 से लागू किए गए तीन नवीन आपराधिक कानून भारतीय न्याय संहिता 2023 ( बी. एन. एस.), भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता 2023 ( बी. एन. एस. एस.) एवं भारतीय साक्ष्य अधिनियम 2023 ( बी. एस. ए.) के प्रावधानों के संबंध में जानकारी दी जानी है। कार्यक्रम में आप सभी वरिष्ठ नागरिकगण , शांति समिति के सदस्य गण, मीडिया बंधु, महिलाएं , युवा, छात्र एवं छात्राएं, सेवानिवृत पुलिस अधिकारी , स्वसहायता समूह के सदस्य गण, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, शिक्षण संस्थानों के अध्यापकगण, अधिवक्ता गण , प्रबुद्ध जन एवं आम नागरिक गण सभी सादर आमंत्रित हैं। संपूर्ण भारत वर्ष में दिनांक 1 जुलाई से लागू किए गए नवीन आपराधिक कानून 2023 के क्रियान्वयन के संबंध में आयोजित इस कार्यक्रम होने के लिए अनुरोध भी किया गया है।

Leave a Comment