ओंकारेश्वर में बन रहा एशिया का सबसे बड़ा पानी पर तैरता सोलर पावर प्लांट

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

सोलर पावर प्लांट की लाइन का ट्रायल हुआ पूरा
खंडवा।  जिले के ओंकारेश्वर बांध के बैकवाटर में निर्माणाधीन एशिया के सबसे बड़े पानी पर तैरते सोलर पावर प्लांट की बिजली लाइन ट्रायल पूरा हो गया है। यहां 100 मेगावाट क्षमता का पहला ट्रांसफार्मर चार्ज होने के बाद काम करने लगा है। इससे केलवाखुर्द के पास बैकवाटर में स्थित एम्प कंपनी के पावर प्लांट तक सप्लाई पहुंच गई है। अब एम्प के प्लांट में अन्य उपकरणों की टेस्टिंग की प्रक्रिया पूरी होने पर पहले चरण में संभवत दो-तीन दिन में 50 मेगावाट बिजली का उत्पादन शुरू हो जाएगा । यहां से खंडवा जिले के छैगांवमाखन ग्रिड तक बिजली पहुंचाई जाएगी। जहां से एमपीपीएमसीएल के माध्यम से प्रदेश के जिन स्थानों पर जरुरत होगी वहां इस प्लांट से बनने वाली बिजली दी जाएगी। बताया जा रहा की पहले ट्रांसफार्मर का ट्रायल हो चुका है। दूसरे ट्रांसफार्मर की टेस्टिंग भी पूर्ण कर ली है। इससे आने वाले दिनों में चार्ज किया जाएगा। तीसरे ट्रांसफार्मर को भी स्थापित किया जा रहा है। इस माह के अंत तक यह काम भी पूरा कर लिया जाएगा। प्रदेश को सोलर पावर से बिजली मिलना शुरू हो जाएंगी।
वी/ओ-खंडवा अपर कलेक्टर काशीराम बडोले ने जानकारी देते हुए बताया कि एशिया का सबसे बड़ा पानी पर तैरता सोलर पावर प्लांट की टेस्टिंग चल रही है और कुल मिलाकर 100 मेगावाट बिजली उत्पादन का उद्देश्य है उम्मीद है जो अगले सप्ताह से शुरू होने की संभावना है शुरुआत की टेस्टिंग में 100 मेगावाट बिजली का उत्पादन होगा।

Leave a Comment

[democracy id="1"]