लव मैरिज करने से खफा परिजनों ने बेहरमी से पीटा

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

पुलिस ने पिता-मामा सहित अन्य पर दर्ज किया मामला
बैतूल। अन्य पिछड़ा वर्ग की लड़की और दलित लड़के द्वारा लव मैरिज कर लिए जाने से लड़की के परिजन इतना अधिक खफा हुए कि दोनों को मौत के घाट उतारने की नियत से दोनों का अपहरण कर जंगल में ले गए। जंगल में दलित लड़के की बेहरमी से पिटाई करने के बाद दोनों को फांसी लटकाने या फिर भूसे में जलाने सहित मारकर बोर के गड्ढे में डालने (ऑनर किलिंग)का प्लान परिजन बना रहे थे। इसी दौरान पुलिस के गांव में पहुंचने की सूचना मिलने पर लड़की के परिजनों ने दलित दामाद को बेहद गंभीर हालत में जिला चिकित्सालय में यह कहते हुए भर्ती करा दिया कि उन्हें घायल अवस्था में सड़क पर मिला था। इस मामले में लड़की के द्वारा दिए गए बयान के बाद पुलिस ने लड़की के पिता, माँ, मामा सहित अन्य के खिलाफ मामला दर्ज कर पिता और मामा को गिरफ्तार भी कर लिया है।
एक नजर में पूरा घटनाक्रम
कोतवाली टीआई देवकरण डहेरिया ने बताया कि मंगलवार की रात्रि में थाना कोतवाली में 100 डायल के माध्यम से सूचना प्राप्त हुई कि रानीपुर क्षेत्रांतर्गत निवासी युवक शिवम पिता नरेन्द्र बर्डे (25) ने एक किला खंडारा थाना गंज क्षेत्र की युवती से इसी 8 फरवरी को आर्य समाज बैतूल बाजार में लव मैरिज की थी। उसके बाद से दोनो गौठाना के वैष्णवी नगर में एक किराए के मकान में रह रहे थे। युवती के परिजनों द्वारा इस बात की नाराजगी से पहले तो उनके किराए के मकान में जाकर मारपीट की गई। इसके बाद दोनों का अपहरण करके अज्ञात स्थान पर ले गये। इस दौरान बीच बचाव करने पर संदीप बर्डे को भी इन्होंने घायल कर दिया। संदीप ने ही पुलिस को सूचना दी थी। इस रिपोर्ट पर थाना कोतवाली में धारा 365, 294, 323, 452, 506, 34 भादंवि एवं 3(1) (द), 3(1) (घ), 3 (2) (व्ही) एससी/एसटी एक्ट का अपराध पंजीबद्ध कर लड़की के पिता और मामा को हिरासत में लिया है।
लड़की ने सनसनीखेज बयान
लव मैरिज करने वाली लड़की ने पुलिस को दिए बयान में बताया कि वे लोग हम दोनों को मारना चाहते थे। भूसे में दबाकर जलाना चाहते थे। बोरवेल के गड्ढे में धक्का देकर हमारी जान लेना चाहते थे। वे हमें फांसी पर लटकाने का भी प्लान कर रहे थे। उन्होंने यह कहते हुए हमारी जान बख्शी कि मुझे पुलिस के सामने शिवम के खिलाफ बयान देना होगा। युवती ने बताया कि उसकी लव मैरिज से माता-पिता और परिवार वाले नाराज हैं। परिजन ने उसका और उसके पति का अपहरण कर बेरहमी से पिटाई कर दी। पति का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है। पुलिस ने युवती के पिता और मामा को हिरासत में ले लिया है।
पहले पीटा फिर खुद ही अस्पताल लेकर पहुंचे
कोतवाली टीआई देवकरण डेहरिया ने युवक के बताए स्थान पर दोनों को तलाशा, लेकिन वे नहीं मिले। इसी बीच रात में दो लोग जख्मी युवक को लेकर जिला अस्पताल पहुंचे। उन्होंने बताया कि युवक कॉलेज के पास घायल पड़ा हुआ था। हालांकि, कैफे के कर्मचारी ने बताया कि घायल शिवम को लाने वाले ही आरोपी हैं। पुलिस ने तुरंत दोनों को हिरासत में ले लिया। उनकी निशानदेही पर युवती को भी बरामद कर लिया गया। बताया जाता है कि युवती की मां का गांव में काफी प्रभाव है। लड़की निजी स्कूल में पढ़ती है। उसकी लव मैरिज परिजन को नागवार गुजरी। अंतरजातीय विवाह होने से भी परिजन नाराज हैं।
चाकू अड़ाकर कैफे के कर्मचारी से पूछा पता
युवती के परिजन को उसके प्रेमी और उसके निवास की लोकेशन पता नहीं थी। रात करीब 10 बजे अपहृत युवक और युवती की तलाश में निकले तो उन्हें कैफे पर कोई नहीं मिला। वे अपनी गाड़ी लेकर आगे बढ़े तो आकाशवाणी मार्ग पर कैफे का एक कर्मचारी मिला, जिसे रोककर चाकू अड़ाकर शिवम का पता पूछा और आगे बढ़ गए।
पुलिस की सतर्कता से टली ऑनर किलिंग
पुलिस की आनन-फानन में दबिश से किला खंडारा गांव में हड़कंप मच गया। आरोपी उस समय युवक-युवती को खेत पर लेकर गए थे, जहां उसके साथ मारपीट की जा रही थी। पुलिस के गांव पहुंचने की खबर मिलते ही आरोपियों ने ऑनर किलिंग का प्लान बदला और घायल शिवम को लेकर अस्पताल पहुंच गए। यहां उन्होंने कहानी गढ़ी की वह रास्ते में घायल मिला था, लेकिन यहां पहुंचे कैफे के मैनेजर विशाल ने बताया कि आरोपी यही हैं, जिसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।
मददगार बोला- मुझ पर भी हमला किया
पुलिस को सूचना देने वाले संदीप बर्डे ने बताया कि करीब 10 लोग अचानक आए और घर में घुसकर मारपीट शुरू कर दी। मैं बचाने दौड़ा तो किसी ने पीछे से मुझ पर हमला कर दिया। मेरे सिर पर गंभीर चोट आई। ये जबरन दोनों को लेकर चले गए।
कार्यवाही में इनका रहा योगदान
उक्त कार्यवाही में थाना प्रभारी कोतवाली देवकरण डेहरिया, एसआई नितिन उईके, भानुप्रताप बुंदेला, इरफान कुरैशी चौकी प्रभारी खेड़ी, एएसआई जगदीश नावरे, अरुण यादव, सुरेश शाक्य थाना गंज, प्रधान आरक्षक अरविंद सिंह, आरक्षक उज्जवल, दुर्गेश चौरे, ओंकार, दिनेश मौरी, मयूर, थाना गंज ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

Leave a Comment

[democracy id="1"]