इजराइल और हमास के बीच जंग का असर मिलों का 90% चावल होता है विदेश में एक्सपोर्ट

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

राइस मिलों में चावल डंप,
लाल सागर में हमले से निर्यात नहीं हो रहा ₹1500 प्रति प्रति क्विंटल गिरे दाम

रायसेन। रायसेन जिले को प्रदेश में बड़े धान उत्पादक के रूप में जाना जाता है । धान के अधिक उत्पादन से क्षेत्र में राइस मिलों की संख्या भी लगातार बढ़ती जा रही है।

इतना ही नहीं रायसेन जिले में धान की क्वालिटी अच्छी होने से यहां तैयार होने से यहां के चावल मिल प्लान्ट से तैयार होने वाला चावल भी बेहतर क्वालिटी का होता है। इसलिए 90% चावल विदेश में एक्सपोर्ट होता है लेकिन 7 अक्टूबर 20 23 से शुरू हुआ इजराइल -हमास युद्ध में रायसेन जिले के चावल निर्यात की हालत बिगाड़ के रख दी है।

ऐसा इसलिए कि इस युद्ध के चलते यमन के हूती विद्रोही लाल सागर से निकलने वाले जहाज का कहीं अपहरण कर रहे हैं तो कहीं उन पर हमला कर रहे हैं ।इसके चलते एक्सपोर्ट रुक गया है।
भारत के बंदरगाहों में जैसे कि कांडला, मुद्रा पोर्ट सहित दूसरे बंदरगाहों पर चावल भरा पड़ा है लेकिन एक्सपोर्ट नहीं हो पा रहा है ।इसके चलते चावल पहले ₹8000 क्विंटल बिकता था ।उसका अब रेट ₹1500 गिर कर ₹6500 आ गया है । इतना ही नहीं चावल का एक्सपोर्ट न होने से इसके चलते जिले की कई राइस मिल बंद कर दिए गए तो कहीं कम क्षमता से काम किया जा रहा है।

₹8000 क्विंटल से गिरकर ₹6500 पर आए चावल के दाम, धान की मांग में आई कमी –
चावल एक्सपोर्ट न होने से धान के दाम में आई कमी1500 रुपये क्विंटल गिरे दाम –

रायसेन जिले में इस बार धान की आवक के शुरुआती सीजन में धान के दाम प्रति क्विंटल पहुंच गए थे।लेकिन विदेशों में चावल का एक्सपोर्ट कम होने से धान की डिमांड में कमी आई है।इसका असर यह हुआ कि धान के दाम में निश्चित रूप से गिरावट आई है।इन दिनों धान के औसत दाम 3हजार से 3600 रुपये तक ही चल रहे हैं।इस तरह से धान के दामों में गिरावट काफी ज्यादा आई है।इसके चलते किसानों को भी धान के दाम कम मिलने से काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है।

अनाज तिलहन संघ के अध्यक्ष कन्हैया मुन्ना लाल सोनी, युवा अनाज व्यापारी मनोज सोनी, मनोज राठौर ने बताया कि चावल एक्सपोर्ट रुकने से धान के दामों में भी ₹1500 प्रति कुंतल की कमी आई है ।
इसके चलते जिले भर में आवेदन किसान धान के कम दाम मिलने से सड़कों पर चक्काजाम करके विरोध प्रदर्शन करते देखे जा रहे हैं।

धान उत्पादन में भी रायसेन का प्रमुख स्थान…..

चावल का एक्सपोर्ट रुकना जिले के किसानों के लिए काफी चिंता का विषय है। रायसेन जिले में खरीफ की मुख्य फसल धान है ।धान के उत्पादन में रायसेन जिले का नाम प्रदेश के मुख्य जिलों में शामिल है ।
यहां से 280000 रेलवे में धान का उत्पादन किया जाता है ।धान की खेती से जिले के लाखों किसान जुड़े हुए हैं ।उन्हें इस बार प्रति क्विंटल बड़ा नुकसान उठाना पड़ रहा है ।जबकि पिछले साल धान का धान के दाम ₹5200 प्रति क्विंटल तक पहुंच गया था।

राइस मिल संचालक बोले….
25000 टन चावल डंप, इसलिए कम क्षमता से चला रहे प्लांट

शहर के सागर रोड स्थित स राइस मिल के संचालक और चावल के बड़े अनाज कारोबारी मिथिलेश सोनी बताते हैं कि बीते दो महीने से चावल बाजार में काफी मंदी चल रही है । ऐसा लाल सागर में हूती विद्रोहियों द्वारा किए जाने वाले हम लोग और जहाज के अपहरण के कारण हो रहा है। भारत के बंदरगाहों पर माल भरा पड़ा है जो एक्सपोर्ट नहीं हो पा रहा है इसका असर यह हुआ कि हमारे पास ही 25000 कुंतल से ज्यादा चावल डंप है।
इसी तरह की स्थिति जिले के दूसरे राज्य प्लांट की है कुछ प्लांट पर तो उत्पादन ही बंद कर दिया गया है। हम ने भी दो में से एक यूनिट बंद कर रखी है बीमा कंपनी माल का भी बीमा भी नहीं कर रही है।

राइस मिल मैनेजर अनिल कुमार का कहना है कि चावलों का निर्यात करने से उनको काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है।
इसी तरह जिले के उदयपुरा के सूरज पाटीदार का कहना है कि चावल बिक्री के कारोबार भी काफी मंदी के दौर से गुजर रहा है। जिससे बजट में निश्चिततौर पर कमी आई है।इस का कारण इजरायल और हमास के बीच जंग की लंबी लड़ाई छिड़ना बताया जा रहा है।

Leave a Comment

[democracy id="1"]