प्रशासक अनुज ओहदार नियम कानून को दरकिनार कर, कर रहे तानाशाही

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

अनुज द्वारा किए गए हिटलर शाही की उच्च स्तरीय जांच आवश्यक

जैतहरी /केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा संचालित शासकीय योजनाओं की धज्जियां किस तरह से उड़ाई जा रही है इसका जीता जागता उदाहरण सहकारिता विभाग के प्रशासक अनुज ओहदार के कार्य क्षेत्र में देखने को मिल रहा है। जानकारी मिली है कि उपायुक्त सहकारिता कार्यालय जिला अनूपपुर में वर्षों से पदस्थ सहकारिता विस्तार अधिकारी सीईओ दर्जनों समिति का प्रशासक अनुज ओहदार केंद्र एवं राज्य सरकार की नीतियों को रौदकर व्यवस्था को चौपट कर रहे है साथ ही मनमर्जी तरीके से हिटलर शाही के बलबूते नियम विपरीत कार्य कर अपने चहेतों को लाभ दिलाते हुए जिम्मेदार अधिकारी एवं विभाग पर कलंक लगा रहे है। बताया गया है कि अनुज ओहदार अनूपपुर जिले में विगत वीस वर्षों से पदस्थ हैं इन्होंने अपने विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों की आंख में धूल झोंक कर पुष्पराजगढ़, जैतहरी ,अनूपपुर, कोतमा क्षेत्र के सहकारी समितियां में जमकर बट्टा लगाते हुए करोड़ों रुपए एकत्र कर आलीशान बंगले में निवास कर कोतमा नगर एवं आसपास कई हेक्टर भूमि मालिक के साथ-साथ करोड़ों रुपए की चल अचल संपत्ति अर्जित कर लिया है जिसकी उच्च स्तरीय जांच आवश्यक है।अनूपपुर जिले के विभागीय कर्मचारियों की बात माने तो समिति प्रशासक अनुज ओहदार एक पढ़े-लिखे सक्षम जिम्मेदार कर्मचारी हैं, फिर भी कर्मचारियों को दबाव बनाकर अवैध कार्य कर्मचारियों से कराते हुए आए दिन उन्हें फसाने का कार्य करते हैं। सूत्रों के माने तो समिति प्रशासक अनुज ओहदार अपने जिला कार्यालय, सहकारी बैंक, सहकारी समिति कार्यालय से लेकर आम जनों तक कर्मचारियों को आपस में लड़ा कर सिरफुटव्वौल का कार्य करते हैं जिसके चलते अनूपपुर जिले के कोतमा ही नहीं जिले के सभी तहसील क्षेत्र के सहकारी समिति कार्यालय में माहौल खराब है जन चर्चा है कि अनुज ओहदार के प्रशासकीय क्षेत्र में ही धान खरीदी में सबसे अधिक अनियमितता हुई है उपार्जन केन्द्र निगवानी, उपार्जन केंद्र कोतमा, उपार्जन केंद्र मंलगा में करोड रुपए की आर्थिक छती जहां हुई है वहीं धान उपार्जन में अनूपपुर जिले की छवि पूरे प्रदेश में धूमिल हुई है कहीं ना कहीं धान खरीदी अनियमितता में अनुज ओहदार की भूमिका अत्यधिक संदेहासपद मानी जा रही है। इतना ही नहीं अनुज ओहदार विगत कई वर्षों से अनूपपुर जिले के उपार्जन कार्य, प्रबंधक बनाना, विक्रेता भर्ती ,ऋण वितरण, निर्माण कार्य के साथ-साथ जिले में जो अन्य सहकारी समितियां चल रही है वहां भी मनमर्जी तरीके से राशि वसूली कर फर्जी तरीके से कार्य करने में मशगूल हैं। इनके कार्यशैली की शिकायत विगत 4 वर्ष पूर्व सहकारी पंजीयन भोपाल, संभाग आयुक्त, कलेक्टर के यहां की गई थी इनके रवैया के चलते विभाग की अत्यधिक छवि धूमिल हुई थी फिर भी अनुज ओहदार अपनी आदत ना सुधारते हुए नियम विरुद्ध कार्य करते हुए विभाग को कलंकित करने में लगे हैं जिस तरह से अनुज ओहदार की हिटलरसाही चल रही है उसे गंभीरता से लेते हुए जिले के लोगों ने मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव, सहकारिता मंत्री मध्यप्रदेश शासन, मध्यप्रदेश सरकार के मंत्री दिलीप जायसवाल न्याय प्रिय कलेक्टर आशीष वशिष्ठ, पंजीयक सहकारी संस्थाएं भोपाल, आयुक्त सहकारी संस्थाएं संभाग शहडोल, उपायुक्त सहकारी संस्थाएं अनूपपुर से मांग किए हैं कि अनुज ओहदार की कार्यशाली की उच्च स्तरीय जांच कराकर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए जिससे जिले की व्यवस्था सुचारू रूप से चल सके,और शासन प्रशासन व सहकारी संस्थाओं के जिम्मेदार अधिकारियों के निर्देशों का पालन हो सके।

Leave a Comment

[democracy id="1"]