शहर में तेंदुआ सो रहा वन विभाग

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

जिला मुख्यालय पहुंचा तेंदुआ
एंकर । जिला मुख्यालय में बीते कुछ दिनों से तेंदूआ ने पशुपालकों की नाक में दम करके रखा हुआ है लगातार बसाहट के करीब आने से जानवरों पर हमले की आशंका बढ़ती जा रही है। जिसके चलते वार्ड क्रमांक 6 में रहने वाले परमलाल राठौर को इन दिनों काफी परेशानियां उठानी पड़ रही है। मगर प्रशासनिक तौर पर कोई भी मदद अभी तक नहीं मिल रही है। तेदुए ने अभी तक एक बछड़े और बिल्ली को अपना शिकार बना लिया है।
सप्ताह भर के भीतर ही तेंदुए के द्वारा अपने दो शावक के साथ जिला मुख्यालय के वॉर्ड क्रमांक 06 में देखा गया है इतना ही नहीं तेंदुए के द्वारा दो बेजुबानों को अपना शिकार भी बनाया गया है बीते दिन से एक ही घर पर तेंदुए के लगातार आने के चलते परिवार काफी भयभीत नजर आ रहा है।  25 बकरियां और दो गायों पर तेंदुए और उसके शावक की नजर टेढ़ी बनी हुई है जो बीते शनिवार से लेकर रविवार देर रात तक वार्ड क्रमांक 6 में रह रहे परमलाल राठौर व उनके परिवार के द्वारा घर की बाड़ी में बनी दीवार पर तेंदुओं को देखने की बात कह रहा है।
घर में बने सार में जानवरों को रखने के बाद लगातार तेंदुए के आने के चलते परिवार के द्वारा अपने बेजुबानों को कमरे में रखा जा रहा है जिसके लिए वन विभाग ने उसे एहतियात बरतने की बात कह है। बावजूद इसके रविवार की रात तेंदुए ने घर की एक पालतू बिल्ली को अपना निवाला बना लिया और परिवार कुछ भी ना कर सका।
ऐसा नहीं है कि वन विभाग इस मामले में कोई कार्यवाही नहीं कर रहा है लेकिन विभाग का कहना है कि जंगल से सटे इलाकों में यह समस्या जरूर रहती है।
इस घटना की एक गवाह ने यह बताया कि खाना खाने के बाद जब रविवार की रात हम लोग घर के आंगन की तरफ आए तो छोटी बहन ने बताया कि घर की बड़ी की दीवार पर कोई बड़ा सा जानवर चढ़ा हुआ है जिसे देखकर पूरा परिवार काफी डरा सहमा हुआ है।
इस घटना से पीड़ित परमलाल राठौर अब कार्यालय के चक्कर काट रहे हैं और सुरक्षा की गुहार लगा रहे हैं लेकिन उनके हाथ अभी तक मायूसी ही लगी है। पीड़ित कार्यालय के इसलिए चक्कर काट रहा है ताकि जंगली जानवर से उसके जानवर और उसके परिवार की सुरक्षा की जा सके।
बीते दिन हुई घटना के बाद से वार्डवासी भी काफी डरे हुए हैं अब उनके लिए भी अपनी और अपने जानवरों की सुरक्षा जरूरी नजर आ रही है।
जंगली जानवरों की निगरानी के लिए बैठा वन विभाग इस मामले में लगातार जानकारी एकत्रित कर रहा है। घटना के दिन भी डीएफओ मौके स्थल पर पहुंचे हुए थे उनके द्वारा परिवार को समझाइए दी गई है। साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि जरूरत पड़ी तो तेदूए का रेस्क्यू का कार्य भी जरूर किया जाएगा।

Leave a Comment

[democracy id="1"]