November 30, 2022 11:28 pm

खाद की कमी से जूझ रहे किसानों के सामने अब बिजली का संकट

Traffictail

परेशान किसानों ने घेरा बिजली ऑफिस

– बिजली संकट से नाराज किसानों ने अधिकारियों को बताई समस्या

शिवपुरी। रंजीत गुप्ता। शिवपुरी जिले में इस समय खेती किसानी के काम के दौरान बिजली की कमी किसानों को अखर रही है। मनमानी बिजली कटौती से गहराए संकट से किसान वर्ग परेशान है। परेशान किसानों ने बिजली ऑफिस पर हंगामा कर दिया। नाराज किसानों ने कहा कि वह पहले से ही खाद की परेशानी झेल रहे हैं और अब उन्हें बिजली संकट का भी सामना करना पड़ रहा है। बिजली संकट से परेशान पोहरी विधानसभा क्षेत्र के बीलवराकला और कमलाखेड़ी गांव के किसानों ने बिजली कंपनी के पोहरी आफिस में पहुंचकर कर प्रदर्शन कर बिजली संकट की समस्या से अधिकारियों को अवगत कराया है।

किसानों ने कहा- खेतों में नहीं हो पा रही सिंचाई-

पर्याप्त बिजली न मिलने से परेशान किसानों ने बताया कि इस समय रबी सीजन की बोवनी के बाद खेतों में सिंचाई नहीं हो पा रही है। किसानों ने बताया कि बिजली कंपनी द्वारा 24 घंटे में से 10 घंटे सिंचाई के लिए बिजली देने का नियम बनाया है लेकिन पिछले 4-5 दिनों से उन्हें 10 घंटे में से मात्र एक आधा घंटा ही बिजली मिल पा रही है.जिस कारण जहां एक ओर किसान अपने खेतों की सिंचाई नहीं कर पा रहे हैं वहीं दूसरी ओर रात रात भर बिजली के इंतजार में खेतों पर रूक कर परेशान होना पड़ रहा है।

बीलवराकला और कमलाखेड़ी गांव के किसानों ने घेरा बिजली ऑफिस

बीलवराकला और कमलाखेड़ी गांव के किसानों ने बताया कि रबी फसलों की बुआई के महत्वपूर्ण समय में किसान खाद वितरण की अनियमितताओं और सिंचाई के लिए पर्याप्त बिजली नहीं मिल पाने के कारण गेहूं की फसल को लेकर किसान चिंतित है.ऐसे में बुधवार को क्षेत्र के किसानों ने बिजली नहीं मिलने की समस्या से बिजली कंपनी के सुपरवाइजर को अवगत कराया।

बिजली अधिकारी बोले- फाल्ट के कारण समस्या

पोहरी बिजली कंपनी के कनिष्ठ यंत्री रवि चौहान ने बताया कि पंप लाइन पर चोरी से बिजली जलाने वाले लोगों की वजह से ओवरलोड के कारण लाइन फाल्ट हो जाती है जिस कारण किसानों को पर्याप्त मात्रा में बिजली नहीं मिल पा रही है.बिजली चोरी करने वाले लोगों के विरुद्ध कार्रवाई कर किसानों को पर्याप्त मात्रा में बिजली उपलब्ध कराई जाएगी।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?