November 30, 2022 10:10 pm

पार्षदों को करो अयोग्य घोषित सीएमओ ने लिखा कलेक्टर को पत्र

Traffictail

पीआईसी की बैठक में हुई गर्मागरम बहस
सीएमओ ने कलेक्टर को लिखा पत्र कहा पार्षदों को नियमन करें अयोग्य घोषित

अनूपपुर। नगर पालिका अनूपपुर में दिन मंंगलवार को पीआईसी की बैठक आहूत की गई थी, बैठक के दौरान गजाला छाई रही दो पार्षदों ने नियम से परे जाकर गजाला परवीन पर अपनी महरबानी दिखाते हुये सीएमओ पर दबाव बनाने के लिये टेबिल ठोकते हुये गाली गलौच के साथ बहस की गई, इधर आहूत की गई इस बैठक में 64 बिन्दुओं पर चर्चा होनी निर्धारित की गई थी किन्तु सभी बिन्दुओं को दरकिनार कर सिर्फ गजाला पर ही बहस होती रही, अंत में सीएमओ ने नाराजगी जताते हुये बैठक से चली गई और अवकाश का आवेदन दे दिया है साथ ही जिला कलेक्टर को पत्र लिख बहस कर रहे इन दोनो पार्षदों को अयोङ्गय करने पत्र भी लिखा है गजाला परवीन एआरआई के पद पर रह चुकी है जो वर्तमान में निलंबन की अवधि में हैं ऐसे में बिना निलंबन समाप्त हुये इन्हे प्रभार दिलाने की वकालत करने वाले पार्षदों ने नगर विकास की जगह खुद की विकास की जुगत बनानी चाही तब सीएमओ ने अधिकार क्षेत्र से बाहर का कार्य करने से मना कर दिया और यही बहस का कारण हुआ।
ऐसे चला घटनाक्रम
नगर पालिका अनूपपुर में पीआईसी की बैठक पूर्व में ही मंगलवार के दिन आहूत की गई थी तब पीआईसी द्वारा 64 बिन्दुओं पर चर्चा करना सुनिश्चित किया गया था, किन्तु जैसे ही पीआईसी की बैठक आरम्भ हुई दो पार्षदों ने निलंबित एआरआई गजाला परवीन को निलंबन की अवधि मे ही प्रभार दिलाने का दबाव सीएमओ पर बनाने लगे, तब सीएमओ ने कहा कि प्रभार देना या न देना सीएमओ के प्रभाव में है ना कि पीआईसी की बैठक यह तय कर सकती, हालांकि बैठक में उक्त विषय पर प्रस्ताव परित किया जा सकता है जिस पर निर्णय लेना प्रशासन का कार्य है, किन्तु पार्षदों ने हद पार करते हुये जोर जबरदस्ती पर उतारू होते रहे तब सीएमओ रोती हुई बैठक से उठकर चली गई और अवकाश का आवेदन कार्यालय को भेज दिया, इधर बिना सीएमओ के पीआईसी की बैठक चलती रही।
नगर छोड़ खुद के विकास में लगे पार्षद
गजाला परवीन एआरआई पद पर पदस्थ रही जिनका वर्तमान में निलंबन अवधि चल रही हैं ये नपा अनूपपुर में जाना पहचाना नाम है क्योंकि इनके सेवाकाल में जमकर वसूली करती हैं शहर में इनके चर्चे हमेशा ही मशहूर रहे हैं , जाहिर बात है यदि इनके लिये पार्षदों द्वारा दबाव बनाया जा रहा है तो वह खुद के विकास की ओर इशारा कर रहा है जबकि नगर विकास के लिये चिन्हित 64 बिन्दुओं पर चर्चा करना पहले ही सुनिश्चित रहा है जिसे दरकिनार कर गजाला परवीन पर ही गर्मा गरम चर्चा बहस चलती रही।
रोती हुई निकली सीएमओ
नगर पालिका अनूपपुर की सीएमओ पीआईसी की बैठक में समय पर पहुंची और चिन्हित बिन्दुओं पर बुलाई गई बैठक में हिस्सा ले रही थी तभी दो पार्षदों ने गजाला परवीन को निलंबन की इस अवधि में ही प्रभार दिलाने का दबाव बनाने लगे, सीएमओ द्वारा मना किये जाने पर जोरदार बहस करते हुये अपने अधिकार क्षेत्र से परे जाकर हल्ला मचाने लगे, तब महिला सीएमओ रोती हुई पीआईसी की बैठक से चली गई, और अवकाश का आवेदन अपने कार्यालय में दे दिया साथ ही जिला कलेक्टर को पत्र लिखकर बहस कर रहे दोनों पार्षदों को पार्षद पद से अयोङ्गय करने के लिये खत लिख दिया।
सीएमओ ने दो पार्षदों को अयोङ्गय करने कलेक्टर को लिखा पत्र
पीआईसी की बैठक में अपने अधिकार क्षेत्र से परे जाकर बहस करने वाले वार्ड क्रमांक 11 के पार्षद प्रवीण सिंह व वार्ड क्रमांक 9 के पार्षद अनिल पटेल के द्वारा आचरण करने से नाराज सीएमओ ने जिला कलेक्टर अनूपपुर को पत्र क्रमांक 2409 दिनांक 22.11.2022 को पत्र लिखते हुये कहा है कि प्रेसिडेंट इन काउंसिल की बैठक में अन्य व्यक्ति की ओर से विधिक कार्यवाही में परिषद के विरूद्ध कार्य करने एवं अशोभनीय आचरण के कारण म.प्र. नगरपालिका अधिनियम 1961 की धारा 41 (02) के तहत इन पार्षदों को पार्षद पद से अयोङ्गय किया जाये, इनके द्वारा कार्यालयीन कार्य में बाधा डाली गई है साथ ही गाली गलौच, टेबल ठोकना आदि अशोभनीय कार्य पीआईसी की बैठक में किया गया है अत: नियमानुशार इन्हे पद से अयोङ्गय किया जाये।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?