November 30, 2022 11:57 pm

Lumpy Virus: सुप्रीम कोर्ट पहुंचा लंपी वायरस का मामला, 31 अक्‍टूबर को होगी

Traffictail

हाइलाइट्स

देशभर में 37,000 से ज्यादा गायों में फैल चुका है लंपी वायरस
समस्‍या से न‍िपटने में राज्य सरकारें कर रहीं लापरवाही
सुप्रीम कोर्ट ने 31 अक्टूबर को सुनवाई करने का द‍िया है भरोसा

नई द‍िल्‍ली. देश के कई राज्‍यों में लंपी वायरस (Lumpy Virus) तेजी के साथ फैल रहा है. इसकी रोकथाम और समाधान को लेकर अभी भी केंद्र सरकार और राज्‍य सरकारें इतनी ज्‍यादा गंभीर नजर नहीं आ रही हैं, ज‍ितना उनको होना चाह‍िए. माना जा रहा है क‍ि अब तक 37 हजार गायों में लंपी वायरस फैल चुका है. अब इस मामले में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) से हस्‍तक्षेप करने की गुहार लगाई है. सुप्रीम कोर्ट ने भी याच‍िका की गंभीरता को देखते आगामी 31 अक्‍टूबर को इस मामले में सुनवाई करने का भरोसा द‍िया है.

जानकारी के मुताब‍िक देशभर में जानवरों में तेजी से फैल रहे लंपी वायरस की रोकथाम की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याच‍िका दायर की गई. कोर्ट से गुहार लगाई क‍ि वह इस मामले में सुनवाई करे. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने 31 अक्टूबर को सुनवाई करने का भरोसा द‍िया है. याचिकाकर्ता ने कहा कि ये वायरस 37,000 से ज्यादा गायों में फैल चुका है. इसल‍िए कोर्ट इस पर जल्द सुनवाई करे. क्योंकि राज्य सरकारें लापरवाही कर रही हैं.

Lumpy Virus: पशुओं पर कहर बरपा रहा लंपी वायरस, क्या इंसानों को बना सकता है शिकार?

बताते चलें क‍ि केंद्र सरकार ने जानकारी दी थी क‍ि लंपी वायरस को देखते हुए आठ से अधिक राज्यों में मवेशियों के टीकाकरण (Vaccinate) के लिए बड़े पैमाने पर प्रयास किया जा रहा है. इसको लेकर पशुपालन और डेयरी विभाग के सचिव जतिंद्र नाथ स्वैन (Jatindra Nath Swain) ने कहा था कि पशुओं में फैले लंपी वायरस पर काबू पाने के लिए गोट पॉक्स (Goat Pox) टीके का उपयोग किया जा रहा है.

बताया जाता है क‍ि गोट पॉक्स टीका इस बीमारी पर 100 प्रतिशत प्रभावी है और लंपी वायरस से प्रभावित राज्यों में स‍ितंबर माह में 1.5 करोड़ खुराक भेजी जा चुकी है. जानकारी के मुताब‍िक गोट पॉक्स टीके का न‍िर्माण दो कंपनियां कर रही हैं. इनकी टीका न‍िर्माण करने की क्षमता एक माह में करीब 4 करोड़ टीका तैयार करने की है.

Tags: Lumpi virus, Lumpy Skin Disease

Source link

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?